कांग्रेस ने कृषि कानूनों के खिलाफ किया अनोखा प्रदर्शन

0
10

कांग्रेस ने कृषि कानूनों के खिलाफ किया अनोखा प्रदर्शन

अर्धनग्न होकर किया सड़क सत्यग्रह

महामहिम राष्ट्रपति महोदय के नाम ज्ञापन सौंपकर किसान विरोधी कानून वापस लेने की कांग्रेस  ने उठाई मांग

सागर /  केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा लाए गए तीन किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार  जिला कांग्रेस कमेटी पिछड़ा वर्ग के तत्वाधान में कांग्रसजनो में स्थानीय भैंसा पहाड़ी पर मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी की अगुवाई में किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ अनोखा प्रदर्शन किया।जहां कांग्रसजनो ने अर्धनग्न होकर प्रदर्शन करते हुए सड़क सत्याग्रह कर  महामहिम राष्ट्रपति महोदय के नाम संबोधित ज्ञापन मौके पर मौजूद थाना प्रभारी श्री परिहार को सौंप कर किसान विरोधी काले कानून वापस लेने की पुरजोर मांग उठाई। अर्धनग्न प्रदर्शन और सड़क सत्याग्रह के  पूर्व कांग्रेसजनों ने  जिला कांग्रेस कमेटी पिछड़ा वर्ग के अध्यक्ष शरद राजा सेन के साथ एकत्रित होकर हाथों में तिरंगे झंडे और ढोल धमाकों के साथ देश की भाजपा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए किसान विरोधी काले कानून वापस लेने की पुरजोर माँग करते हुए भाजपा सरकार को जमकर घेरा। प्रदर्शन को संबोधित करते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेंद्र चौधरी ने कहा कि केन्द्र की भा.ज.पा. सरकार द्वारा कोरोना काल में जल्दबाजी में संसदीय परंपराओं को ताक में रखकर संसद से बहुमत की तानाशाही का इस्तेमाल कर अन्न दाता किसान विरोधी काले  कानूनो को  पास कराया गया है। उन्होंने कहा कि सत्ता के मद में चूर मोदी सरकार ने देश के किसी भी किसान संगठन से कृषि कानूनों को बनाते समय सलाह, मशवरा नहीं किया गया जो सरकार के किसान विरोधी चहरे को उजागर करता हैं। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों के तीनो प्रावधान भारत के किसान और देश की अर्थव्यवस्था की बुनियाद कृषि को गहरे संकट में डालने वाले हैं साथ ही  देश का अन्न दाता किसान भविष्य में सरकारी कृषि उपज मंडियों के समाप्त होने से अपनी उपज बाहरी व्यापारियों को बेचने लाचार हो जाएगा मंडियों के खत्म होने से बड़े पूंजीपति घरानों का कृषि उपज और उसकी खरीदी विक्री पर एकाधिकार हो जाएगा तथा कृषि उत्पादन के संग्रह की सीमा समाप्त होने से देश के बड़े पूंजीपति अदानी अम्बानी जैसे लोग अपने अकूत पूंजी दम पर लाखों टन अनाज अपने गोदामों में संग्रह कर बाजार में इन वस्तुओं के दाम बढ़ाकर मुनाफा कमाएंगे और गरीब जनता की मुश्किलें बढ़ाएंगे। जिला कांग्रेस पिछड़ा वर्ग के अध्यक्ष शरद राजा सेन ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा लाये गए कृषि कानूनों से कृषि उत्पादों का न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी सरकार द्वारा नहीं दिए जाने के कारण बाजार में किसानों की उपज कम दामों में व्यापारियों द्वारा खरीदी जाएगी इसका नतीजा होगा पहले से ही आर्थिक संकट से घिरा किसान और अधिक गहरे संकट में पड़ जायेगा। प्रदर्शन में मुख्य रूप से पूर्व विधायक  सुनील जैन, वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुरजीत सिंहअहलुवालिया,नीरज मुखारया, विजय साहू, मुकुल पुरोहित, रामकुमार पचौरी,सिंटू कटारे,राशिद खान,अशरफ खान, देवेन्द्र कुर्मी,मुकेश खटीक, आर. आर. पारासर, एम.आई. खान, हरप्रसाद अहिरवार,आर.आर. पारासर,अनिल कुर्मी,अबरार सौदागर, सुरेन्द्र करोसिया, सन्दीप चौधरी, निर्वाण सिंह, मुल्ले चौधरी, अम्बुज चौहान,मोनू राजपूत, निशान्त आठया,रोहित वर्मा, संजय रोहिदास, राजेश श्रीवास,रशीद खान, गंगाराम केमले, राकेश अहिरवार, पंचम लाल, जयराम लड़िया, रामकुमार अहिरवार, राजेन्द्र साहनी,रामप्रसाद अहिरवार, परम माते, मुन्नालाल अहिरवार, प्रभा बाई विश्वकर्मा, रामबती बाई, शान्ति बाई,राजकुमारी बाई,सेवाराम,राजा अहिरवार,राजकुमार,राकेश अहिरवार,वीरेंद्र चढ़ार,झगड़ू अहिरवार, छोटेलाल,बिहारी पटेल, धर्मदास अहिरवार आदि कांग्रेसजन शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here