निगम के तुगलकी फरमान के खिलाफ लामबंद हुए दुकान किराए दार

0
3

निगम के तुगलकी फरमान के खिलाफ लामबंद हुए दुकान किराए दार

किराया वृद्धि को लेकर धरना देंगे निगम दुकानदार
राघवेंद्र सिंह
(मध्यप्रदेश)सागर/नगर निगम सागर द्वाराया दुकानों के कराया बढाने से दुकानदारों में नाराजगी बनी है । ञ्जर निगम व्यापारी जांगह के अध्यक्ष भीष्म राजपूत,सुरेश पिंजवानी और विकास केशरवानी ने आज मिसिता को बताया कि  नगर पालिका निगम सागर के समस्त दुकान किरायेदारलगभग 2300 म.प्र. शासन द्वारा जारी अधिसूचना के अन्तर्गत नगरीय विकास एवं पर्यावरण विभाग भोपाल द्वारा जारी अधिसूचना दिनांक 24 फरवरी 2016 के दायरे में नहीं आते है। परंतु नगर पालिका निगम सागर वर्ष 2016-2017 वर्ष 2017-2018 वर्ष 2018-2019 वर्ष 2019-2020 का किराया अप्रत्याशित वृद्धि
कर किराया वसूली के नोटिस दे रही है। तथा वर्ष 2016-2017 से अब तक बकाया किराया वसूलीपर भारी पैनाल्टी लगाई गई है। तथा व्यापारियों को वर्ष 2016-2017 से वर्ष 2018-2019 तककम्प्यूटरी प्राणाली जारी किये जाने के कारण किराया बिल नही दिये गये न ही किराया लिया गया है। वर्तमान में नगर पालिका निगम सागर उक्त वर्षों के बिलो का भुगतान करने के लिए अवैध तरीके से दबाव बना रही है। कि किरायेदार वर्ष 2017-2018 से वर्ष 2019 2020 तक किराया पैनाल्टी सहित जम्माकिया जाये अन्यथा संबंधित व्यक्ति की किरायेदारी समाप्त कर दुकान कुर्क कर
ली जाएगी नगर पालिका निगम सागर के इस मनमाने रवैये से परेशान होकर समस्त नगर निगम सागर के किरायेदार नगर निगम मार्केट, बक्सीखाना मार्केट, साबूलाल मार्केट ,सुभाष बाजार, नया बाजार, सिधी बाजार, रहतगढ़ बस स्टैन्ट और मुख्य बस स्टैन्ट ,नगर पालिक निगम के मनमाने प्रत्यासित किराये एव उस पर पैनाल्टी का पुरजोर विरोध करती है। एवं शांति पूर्ण तीन दिवसीय धरना प्रदर्शन कर म. प्र. सरकार को अपनी समस्त समस्याओं से अवगत कराएगी।तथा एक दिवसीय समस्त व्यापारिक
संस्थाओं को बन्द रखेगी। म. प्र. सरकार एवं नगरपालिक निगम सागर से हम नगर निगम सागर के दुकान किराये दार (व्यापारियो ) की निम्नलिखित मांगे है।
(1)नगर पालिक निगम सागर के दुकान किरायेदार व्यापारियों को किराया वसूली के नाम पर परेशान एवं प्रताडित न किया जाय।
(2) पुराने किरायेदारों को अधिसूचना दिनांक 24/02/2016 के बाहर रखा जाय।
( 3 ) पुराने किरायेदारों से वर्ष 2016-2017 से 2019-20 तक किराया 10 प्रतिशत वृद्धि करके लिया जाय एवं उस पर पैनाल्टी नहीं लगाई जाय।
(4)जिन व्यापारियों ने वर्ष 2016-2017 से 2019-2020 तक का किराया अथवा अंश किराया जमा किया है। उनके किराये को पुराने किराये के अनुसार 10 प्रतिशत वृद्धि कर समायोजन किया जाये।
(5) पुराने दरों से वर्ष 2020 2021 से 30 वर्षो का पट्टा निष्पादित किया जाये।
 उक्त मांगों के साथ समस्त व्यापारी संगठन विरोध प्रदर्शन हेतु 3 दिवसीय प्रदर्शन करेगें एवं मांगों पर विचार अथवा मांगे नहीं मानी गई तो धरना अनिश्चित कालीन किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here