निर्भया कांड के दोषियों को फांसी की सजा के निर्णय का ग्रामीणों ने किया स्वागत 

0
59

देश की बेटी को मिला इंसाफ ,ग्रामीणों में खुशी की लहर

निर्भया कांड के दोषियों को फांसी की सजा के निर्णय का ग्रामीणों ने किया स्वागत

रमेश श्रीवास्तव

(ललितपुर) देश की बेटी के साथ दिल्ली में हुई दरिंदगी के बाद हुई हत्या ने पूरे देश को शर्मसार कर दिया था उस बक्त पूरे देश में निर्भया की मौत पर आक्रोश फैल गया था निर्भया की मौत पर देशवासियों ने श्रद्धांजलि देते हुए दोषियों को फांसी की सजा जल्द से जल्द दिलाने के लिए बडे पैमाने पर प्रदशर्न किया था । पूरे देश में हुए प्रर्दशन का परिणाम यह हुआ की बाल योन षोषण एवं महिलाओं के साथ होने वाले योन अपराधों आदि की रोकथाम के लिए नए कानून बनाए गए जिसका नतीजा यह हुआ की बालिकाओं एवं महिलाओं के साथ होने वाली छेडख़ानी की घटनाओं में तो कमी आई है लेकिन निर्भया को न्याय मिलते मिलते सात वर्ष से अधिक का समय बीत गया 20 मार्च को निर्भया के दरिंदों को फांसी पर लटकाए जाने के निर्णय का शहरों के साथ गांव में निवास करने वाले ग्रामीणों ने भी स्वागत किया है ।

पिछले सात वर्षों से देश के कानून के साथ नए नए पैतरे बाजी एवं आंख मिचौली का खेल खेल रहे निर्भया गैंगरेप और मर्डर केस के चारों दोषियों की फांसी की सजा अब 20 मार्च शुक्रवार सुबह साढ़े 5 बजे चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में फांसी दिए जाने का समाचार मिलते ही शहर से लेकर गांव में भी खुशी की लहर देखने को मिल रही है । पटियाला हाउस कोर्ट ने द्वारा दोषियों के डेथ वॉरंट पर रोक लगाने से इनकार करने के साथ ही चारों दोषियों को मिलने वाली सजा का रास्ता. साफ हो गया है । आखिरकार सात साल, तीन महीने तीन दिन बाद निर्भया के गुनहगार अपने असली अंजाम तक पहुंचने वाले हैं। लेकिन निर्भया के दोषियों को सजा मिलने में लम्बा बक्त लगने से लोगों में कानून के साथ खिलवाड़ करने वाले बकीलों के प्रति नाराजगी जाहिर की है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here