रसोई गैस व खाद्य पदार्थो में बढ़ोतरी आम जनता के साथ एक क्रूर मज़ाक — डॉ सबलोक

0
92

भाजपा शासित केंद्र की मोदी सरकार ने आम जनता को नए साल पर दी सौगात की बजाए महंगाई की मार-
रसोई गैस व खाद्य पदार्थो में बढ़ोतरी आम जनता के साथ एक क्रूर मज़ाक — डॉ सबलोक
सागर / मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एवं पीसीसी सदस्य डॉ संदीप सबलोक ने केंद्र की मोदी सरकार द्वारा रसोई गैस के मूल्य और रेल किराए की दर में वृद्धि के निर्णय पर चुटकी लेते हुए कहा की मोदी सरकार द्वारा नए साल के पहले दिन आम जनता को नए साल की कोई सौगात देने की बजाय महंगाई की मार देकर उसके जख्मों पर नमक छिड़कने का काम किया है। डॉ सबलोक ने केंद्र सरकार द्वारा की गई इस मूल्यवृद्धि पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि जहां एक तरफ खाद्य तेल एवं अन्य खाद्य पदार्थों के साथ ही आम जनता की उपयोग में आने वाली चीजों के दाम बाजार में लगातार बढ़ रहे हैं वहीं दूसरी तरफ आर्थिक मंदी के चलते व्यापार एवं धंधे चौपट हो रहे है जिससे देश भर में बेरोजगारी बढ़ रही है। दरों में की गई बढ़ोतरी आम जनता के साथ एक क्रूर मज़ाक है। उन्होंने भाजपा के नेताओं को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केंद्र में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के समय गैस के मूल्य 435 रू प्रति सिलेंडर तथा रेल किराए व मालभाडे के साथ प्लेटफॉर्म टिकट की दरें न्यूनतम स्तर पर थी उस समय भाजपा के नेता देशभर में महंगाई डायन के नाम से सड़कों पर उतरकर विधवा विलाप किया करते थे। परंतु आज उनकी ही सरकार में रसोई गैस की कीमत करीब 750 रू के साथ हर स्तर की सेवाओं और वस्तुओं में लगातार मूल्य वृद्धि, आर्थिक मंदी से घटते व्यापार और बढ़ती बेरोजगारी के इस दौर में उनका मौन रहना देश की जनता के साथ धोखाधड़ी है। डॉ सबलोक ने इस मूल्य बृद्धि को वापिस लेने की मांग की है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here