MP में कल से खुल रहें स्कूल, यहां जानें पूरा नियम

0
5

लॉकडाउन के बाद एमपी में पहली बार सोमवार से स्कूल खुल रहे हैं। स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से जारी गाइडलाइन का संचालक पूरी तरह से पालन करेंगे। साथ ही शिक्षकों और छात्रों के लिए मास्क और सैनिटाइजर अनिवार्य किया गया है।

हाइलाइट्स:

  • एमपी में 21 सितंबर से खुल रहे हैं स्कूल, प्रबंधन ने पूरी की तैयारी
  • स्कूल में प्रवेश से पहले छात्रों और शिक्षकों के तापमान की होगी जांच
  • कंटेनमेंट जोन में अभी स्कूल नहीं खोलने की है अनुमति
  • स्कूल खुलने से पहले होंगे सैनिटाइज, क्लास में छात्रों के बीच रहेगी 6 फीट की दूरी

भोपाल

एमपी में राज्य सरकार की तरफ से हरी झंडी मिलने के बाद प्रदेश स्कूल 50 फीसदी क्षमताओं के साथ 9वीं और 12वीं के छात्रों के स्वागत करने के लिए तैयार हैं। अभी स्कूल छात्रों के मार्गदर्शन के लिए खुल रहे हैं। स्कूल में छात्रों की समस्या के समाधान के लिए शिक्षक उपलब्ध रहेंगे। वहीं ऑनलाइन क्लास भी जारी रहेगी।

राज्य और केंद्र की तरफ से जारी एसओपी का स्कूल पूरी तरह से पालन कर रहे हैं। स्कूल रिओपनिंग से पहले प्रबंधन छात्रों की सुरक्षा के लिए वो सब कुछ कर रहे हैं, जो संभव है। स्कूल में छात्रों और कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर थर्मल स्कैनर और ऑक्सीमीटर की व्यवस्था की गई है। कोविड की चुनौतियों को देखते हुए स्कूल प्रबंधन सुरक्षा से कोई खिलवाड़ नहीं करने वाली है।

स्कूल संचालक कक्षाएं शुरू करने से पहले पूरी बिल्डिंग को सैनिटाइज करवाएंगे। साथ ही कक्षा संपन्न होने के बाद भी बिल्डिंग को सैनिटाइज किया जाएगा। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए सागर पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल पकंज शर्मा ने कहा कि स्कूल परिसर में प्रवेश से पहले हम सभी छात्र और कर्मचारियों का टेंपरेचर चेक करेंगे।

वहीं, बाल भवन स्कूल के प्रिंसिपल राजेश शर्मा ने कहा कि हम लोग स्कूल में एक आइसोलेशन रूम की व्यवस्था कर रहे हैं, अगर क्लास के दौरान किसी बच्चे को बुखार आ जाए, तो हम लोग तुरंत उसको वहां शिफ्ट कर सकें। हमारे पास ऑक्सीजन लेवल चेक करने के लिए ऑक्सीमीटर भी है। स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से जो निर्देश और एसओपी दिए गए हैं, हम लोग उसका पालन कर रहे हैं।

मास्क और सैनिटाइजर साथ रखें
स्कूलों ने यह भी निर्देश जारी किया है कि छात्र और शिक्षक मास्क पहनेंगे, साथ ही सैनिटाइजर की छोटी बोतल अपने पास रखेंगे। इसके साथ ही क्लास में छात्रों के बीच दूर बनी रहे, इसके लिए क्लासरूम से टेबल और कुर्सियां बाहर निकलवा रहे हैं। आईईएस स्कूली की निदेशिका मनीषा ने कहा कि स्कूल में 50 फीसदी ही स्टॉफ बुलाए जाएंगे, ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग की समस्या नहीं होगी। उन्होंने कहा कि हमने छात्रों के बीच 6 फीट की दूसरी बनाए रखने की व्यवस्था की है। साथ ही स्कूलों को प्रॉपर तरीके से सैनिटाइज किया जाएगा।

वहीं, इस दौरान कंटेनमेंट जोन में स्कूल खोलने की अनुमति नहीं है। यहीं नहीं कटेंनमेंट जोन में रह रहे विद्यार्थियों और शिक्षकों को भी स्कूल आने की अनुमति नहीं है। बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर पूरी तरह से रोक रहेगी। विद्यार्थियों की भावनात्मक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए शिक्षक, स्कूल काउंसलर्स और स्कूल के स्वास्थ्य कार्यकर्ता काम करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here